तेरे होठों पे हो बस मुस्कान, ऐसा में कुछ आज करू, ना होने दू कभी मोहब्बत कम इतनी जी भर कर तुझे मोहब्बत करू

बेपनाह मोहब्बत तुमसे मिलकर हुई, इस मेरे दिल को खुशी तुमसे मिलकर हुई, पाया सब कुछ दुनिया में मैंने, पर जीने में खुशी तुमसे मिलकर हुई

Muskaan Ho Tum In Hotho Ki, Dhadkan Ho Tum Is Dil Ki, Hansi Ho Tum Is Chehre Ki, Jaan Ho Tum Is Rooh Ki

चेहरे पर तेरे सिर्फ मेरा ही नूर होगा उसके बाद फिर तू न कभी मुझसे दूर होगा जरा सोच के तो देख क्या ख़ुशी मिलेगी, जिस पल तेरी मांग में मेरे नाम का सिंदूर होगा

Bas Ek Chhoti Si Haan Kar Do, Hamare Naam Is Tarah Sara Jahan Kar Do, Wo Mohabbt Jo Tumare Dil Main Hai, Un Ko Juban Par Lao Our Byan Kar Do