Mai Ab Chahat Karu Ya Taqrar-Chahat Shayari, best romantic hindi shayari

Share This

Mai Ab Chahat Karu Ya Taqrar-Chahat Shayari, best romantic hindi shayari

चाहत तकरार की  चाहत शायरी. mai ab chahat karu ya taqrar. एक प्यार एक विश्वाश ओर एक तरफी chahat किसी को किसी से प्यार तो हो जाता है. किसी को किसी से होता है या नहीं यह कैसे जाने दिल से chahat तो रहती है Chahat Shayari best romantic hindi shayari की में उस से प्यार करू पर क्या वो भी यह ही चाहत रखती है दिल में जैसे में रखता हूँ. क्या mai ab chahat karu ya taqrar. अगर हो जाये chahat तो उसी से जिससे होती है taqrar कैसे कहदे की मुझे ab tumse chahat hone lagi hai. हेल्लो दोस्तों mai रिचा शर्मा आपका स्वागत है मेरे blog पर आज किसी की chahat ने chahat को यह पैगाम दिया है लिखूं mai कुछ इस तरह की मेरी कलम भी मेरी chahat की आदि हो जाये,

Mai Ab Chahat Karu Ya Taqrar,

हमको शायर समझ के यूं

नजर अंदाज ना करिएगा,

नजर जब हम फेर लेंगे तो,

तेरी चाहतों का बाजार गिर जाएगा….।।

———

Chahat ki gahrai mai,

Kaisi gahrai hai teri chahat mai,

aur meri mohabbat mai,

Na dooba hun ab tak na sataah ki,

koi umeed nazr aati he…..||

———

Mai Ab Chahat Karu Ya Taqrar,

Teri Zulfon Ke Saaye Ki Chahat Aaj Bhi He,

Raat Kati He Aaj Bhi Khayalo Mai Tere,

Diwaano Si Wo Mere Halat Aaj Bhi He,

Kisi Or Ke Tassavoor Ko Uthaati Nhi,

Baiman Aankho Mai Thori Si Sharaafat Aaj Bhi He,

Chaah Kar Ek Baar chaahe Phir Chhod Dena Too,

Dil Tor Kar Tujhe Jaane Ki Izzazat Aaj Bhi He….||

————

chahat shayari in hindi for girlfriend,

चाहत यह नहीं जो जान देती है,

चाहत यह नहीं जो मुस्कान देती है,

ऐ दोस्त चाहत तो यह है,

जो पानी में भी गिरा आंसू पहचान लेती हैं…||

——–

Chahat me uski me,

Koi he jiska is dil ko intezar he,

Khayalon mai bas usi ka khayal he,

Khushiyaan mai saari us par luta dun,

Chahat me uski me khud ko mita dun,

Kab Aayega wo jiska is dil ko intezaar he…..||

——–

मै अब चाहत करू या तकरार,

हम तेरे हर ग़म को अपनी रूह में उतार लेंगे,

ज़िंदगी अपनी तेरी चाहत में सवार लेंगे,

मुलाक़ात हो तुम से कुछ इस तरह मेरी,

पूरी उम्र बस ऐक मुलाक़ात में गुज़ार लेंगे…..||

——–

ऐ सुनो तुम इतने भी अच्छे नही हो,

बस मेरे चाहत-ए-दिल ने सिर पर चढा रखी है…||

———

चाहत तकरार की,

Paani Se Tasbir Kaha Banti He,

Khwabon Se Taqdir Kaha Banti He,

Kisi Ko Chaho To Sacche Dil Se,

Qki Ye Zindagi Fir Kaha Milti He…||

——-

बड़े ही अजीब से हो गए रिश्ते आजकल,

सब फुरसत में हैं पर वक़्त किसी के पास नही…||

——-

Itni Chahat Ke Baad Bhi Tujhe Ehsaas Na Hua,

Jara Dekh To Le Dil Ki Jagha Patthar To Nhi….||

———-

तेरा नाराज होना बर्दाश्त नहीं शायरी,

कोई वादा नहीं फिर भी प्यार है;

जुदाई के बावजूद तुम पर अधिकार है;

तेरे चेहरे की उदासी दे रही है गवाही;

हम से मिलने को तुम भी बेकरार है…||

——-

Kab Nhi Naaz Uthaaye He Tumhare Maine,

Dekho Aanchal Par Sajaaye He Sitare Maine….||

——–

बेपनाह चाहत शायरी,

अनजाने में तुम से मुलाकात सी हो गई,

दोस्ती करने चले थे ओर तुम से चाहत सी हो गई,

अपने वजूद में तुम को तलाश करते है,

हमको तुम्ही से मुहोबत सी हो गई….||


Mai Ab Chahat Karu Ya Taqrar

तेरी चाहत मैं हम,

तेरी चाहत मैं हम ज़माने भूल को गए,

किसी ओर को हम अपना बनाने को भूल गए,

तुम से ही मोहब्बत है सारे ज़माने को,

बताया बस ऐक तुम्हे ही हम बताने को भूल गए…||

———

प्यार की चाहत शायरी,

ज़िन्दगी ऐक हसीन ख़ुवाब है,

जिसमें जीने की चाहत होनी चाहिए,

ग़म को ख़ुशी मैं बदल जाएंगे,

सिर्फ आपकी मुस्कुराने की आदत होनी चाहिए….||

———-

Aaj Fir Aaina Puchta He,

Ke Teri Aankhoon Mai Nami Q He,

Jiski Chahat Mai Khud Ko Bhula Diya,

Fir Uski Chahat Mai Kami Q He….||

——–

Meree chahat ko chahat se,

Meri chahat ko apna ishq bana ke to dekh le,

Meri hansi ko apne hoto par muskra ke to dekh le,

Mere aansu ko apni aankhon se geera ke to dekh le,

Meri tadaf ko apne dil se mahsoos kr ke to dekh,

Yeh pyar ik haseen tohfa he jaan,

Kabi chahat ko chahat kee tarah bhi nibha ke to dekh le….||

———


Share This

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *