zakhm shayari in hindi | ज़ख्म शायरी इन हिंदी | दर्द भरी बेरहम शायरी

zakhm shayari in hindi | ज़ख्म शायरी इन हिंदी | दर्द भरी बेरहम शायरी. अपना दर्द शायरी. दुनिया की सबसे दर्द भरी शायरी. जिंदगी की दर्द भरी शायरी. दर्द भरी बातें. दर्द भरी शायरी हिंदी में लिखी हुई. प्यार में दर्द भरी शायरी हिंदी में. खूब दर्द भरी शायरी. सबसे दर्द भरी शायरी.

 

zakhm shayari in hindi

 

ज़ख़्म ऐसा दिया की कोई दवा भी काम ना आई

आग ऐसी लगाई की पानी से भी भूझ ना पाई,

आज भी रोते है उसकी याद मैं जो छोड़ कर चले गयें,

ओर उसको एक दिन भी हमारी याद तक ना आई…!!

““““`

Zakhm aisa diya ki koi dawa bhi kaam naa aai,

Aag aisi lagaai ki paani se bhi bhujh naa paai,

Aaj bhi rote hai uski yaad main jo chhod kar chale gaye,

Or usko ek din bhi hamari yaad tak naa aai…!!

 

*******

ज़ख्म शायरी इन हिंदी

 

गहरी बाते समझने के लिए

गहरा होना बहुत जरूरी है,

ओर गहरा वो ही हो सकता है

जिसने गहरी चौटे खाई हो…!!

 

““““`

Gahri baatein samjhne ke liye

Gahra hona bahut jaruri hai

Or gahra wo hi ho sakta hai,

Jisne gahri chaute khai ho..!!

read more..

*******

dard bhari zakhm shayari

 

मुस्कराहट यूँ ही मेरे दिल के जख्मों को छुपा लेती है,

जैंसे माँ अपने बच्चों की खूबियों को सबसे छुपा लेती है…!!

““““

Muskrahat yoon hi mere dil ke zakhmon ko chhupa leti hai,

Jaise maa apne bachcho ki khubiyo ko sabse chhupa leti hai…!!

 

*******

zakhm shayari hindi me

 

काश बनाने वाले ने दिल कांच का बनाया होता,

तोड़ने वाले के हाथ में ज़ख्म तो आया होता…!!

 

“““`

Kaash Banane Wale Ne Dil Kanch Ka Banaya Hota,

Todne Wale Ke Hath Main Zakhm To Aaya Hota…!!

 

********

zakhm shayari in hindi mashooq

 

जितने भी जख्म थे सबको सहलाने आएं है,

वो माशूक खंजर के सहारे मरहम लगाने आएं हैं…!!

 

“““““`

Jitne bhi zakhm the sabko sahlane aaye hai,

Wo mashooq khanzar ke sahare marham lagane aaye hai..!!

 

********

अपनों का दर्द शायरी

 

ना पाने की खुशी है कुछ, ना खोने का ही कुछ गम है,

यह दौलत और शौहरत, सिर्फ कुछ जख्मों का मरहम है,

अजब सी कशमकश है, रोज जीने रोज मरने में,

मुक्कमल जिंदगी तो है, मगर पूरी से कुछ कम है..।।

 

“““““`

 

Na pane ki khushi hai kuch, Na khone ka hi kuch gam hai,

Yeh daulat or shauharat, Sirf kuch zakhmon ka marhum hai,

Ajab si kasmakas hai, Roj jeene roj marne me,

Muqqamal zindagi to hai, Magar puri se kuch kam hai..!!

 

😭😭😭😭😭

ज़ख्म शायरी इन हिंदी

 

तेरी बेवफाई ने कुछ यूँ असर किया है

मुझ पर अब न हँस पाता हूँ मैं,

न रो पाता हूँ मैं

न तो प्यार की राह में रुक पाता हूँ मैं

ना प्यार में आगे बढ़ पाता हूँ मैं………।।

 

“““““

 

Teri bewafai ne kuch yoon asar kiya hai,

Mujh par ab na hans pata hoon main,

Naa ro pata hoon main,

Na to pyar ki raah main rook pata hoon main,

Na pyar main aage badh pata hoon main..।।

 

😭😭😭😭😭😭

zakhm shayari in hindi. ज़ख्म शायरी इन हिंदी. दर्द भरी बेरहम शायरी

dil par zakhm shayari in hindi

 

यह ज़मीन की फितरत है

के हर चीज़ को सोख लेती है,

वरना तेरी याद में गिरने वाले

आंसुओं का एक अलग समंदर होता..।।

 

““““““

 

Yeh zameen ki fitarat hai

Ke har cheej ko sokh leti hai,

Varna teri yaad main girane wale,

Aasuo ka ek alag samnder hota..।।

 

😭😭😭😭😭😭

dil ka zakhm gahra gahra

 

हालात के कदमों पर कलंदर नहीं गिरता,

टूटे भी यह तारा तो जमीन पर नहीं गिरता,

गिरते हैं समंदर में बड़े शौक से दरिया,

लेकिन किसी दरिया में समंदर नहीं गिरता..।।

 

“““““““

 

Halat ke kadamo par kalnder Nahi girta,

Toote bhi yeh taara to zameen nahi girta,

Girte hai samnder mein bade shauk se dariya,

Lekin kisi dariya mein samnder nahi girta..।।

 

😭😭😭😭😭😭

जख्म दर्द शायरी Hindi

 

जैसे झुलसते पत्थरों पर

शबनम की बूंदों की तरह

जैसे उजाड़ किसी हवेली में

कोई परिंदा लौट आया जैसे….

 

““““““

Jaise jhulsate pattharo par

Shabnam ki bundon ki tarah,

Jaise ujad kisi haveli mein,

Koi parinda laut aaya jaise…

 

😭😭😭😭😭😭

pyar ka zakhm shayari in hindi

 

जैसे सियाह रात में

चमकते सितारों की तरह

जैसे अँधेरे से लड़ता

कोई जुगनू जगमगाता जैसे….

 

““““`

Jaise siyaah raat mein

Chamkate sitaaron ki tarah

Jaise andhere se ladta

Koi jugnu jagmagata jaise….

 

😭😭😭😭😭😭

 

जैसे ग़ुलामी के दौर में

खिलाफत की शमशीर बन कर

जैसे पिंजरे की हद को पार

खुले आसमान की परवाज़ जैसे….

 

““““““`

 

Jaise gulami ke daur mein

Khilaafat ki shamshir ban kar

Jaise pinjare ki had ko paar

Khule aasmaan ki parwaaz jaise…

 

😭😭😭😭😭😭

zakhm bhari shayari

 

यह ज़ख्म हिज्र के हैं

भरें भी तो कैसे

कुरेद देते हैं खुद इनको

जब तनहा होते हैं ऐसे…..

 

“““““

 

Yeh zakhm hizr ke hai,

Bhare bhi to kaise

Kured dete hai khud inko,

Jab tanha hote hai jaise….।।

Leave a Comment