zalim teri bewafai shayari in hindi, ज़ालिम तेरी बेवफाई शायरी इन हिंदी

zalim teri bewafai shayari in hindi, ज़ालिम तेरी बेवफाई शायरी इन हिंदी

 

हेल्लो दोस्तों welcome back zalim teri bewafai shayari in hindi, ज़ालिम तेरी बेवफाई शायरी इन हिंदी, इश्क़ का क्या गुनाह होता है जो किसी से प्यार मोहब्बत कर बैठता गुनाहगार तो आँखे होती है, उस ज़ालिम जरा भी रहम नहीं आया था जो दिल तोड़ गया प्यार मैं, बड़ी मुद्दतो के बाद एक चाहने वाला मिलता है | या तो वो खुद छोड़ जाता है या फिर मुह मोड़ जाता है, बेवफा क्यों बन जाता है कोई ज़िन्दगी भर साथ क्यों नहीं देता है, आज यही एक छोटी सी प्रेम कहानी है best collection hai zalim shayari ka,

 

 

zalim teri bewafai shayari in hindi,

 

ज़ालिम बेवफा तेरा प्यार शायरी,

जब दूर जाना ही था तो पास क्यों आये,

जब दिल तोडना ही था तो दिल क्यों लगाये,

यूं बहाना क्यों बनाते हो पास ना आने का,

रुकस्त ही रहना है तो दिल मैं आश क्यों बंधाये…!!

Jab door jaana hi tha to paas kyon aaye,

Jab dil todna hi tha to dil kyon lagaye,

Yoon bahana kyon banate ho paas na aane ka,

Rukast hi rahna hai to dil main aasha kyon bandhaye…!!

******

zalim teri bewafai shayari in hindi,

खुशी मुबारक हो तुमको ओ महबूबा,

उदासी अब मेरी इक पेहचान बन गई,

तेरी बेवफाई ओ ज़ालिम आज,

तेरे इस आशिक़ की यही इक पेहचान बन गई…!!

Khushi Mubarak ho tumko o mahbooba,

Udaasi ab meri ik pehchaan ban gai,

Teri bewafai o zalim aaj,

Teri is aashiq ki yahi ik pehchaan ban gai…!!

******

ज़ालिम तेरी बेवफाई शायरी इन हिंदी,

देखना ज़ालिम एक दिन इतना दूर चला जाऊंगा,

आवाज़ लगाओगी तो भी लौट कर ना आऊंगा,

देखा तेरा प्यार देखी तेरी वफ़ादारी,

जब मेरा मूख देखोगी तो कफ़न ओढ़ कर सो जाऊंगा….!!

Dekhna zalim ek din itna door chala jaaunga,

Aawaz lagaogi to bhi laut kar na aaunga,

Dekha tera  pyar dekhi teri wafadaari,

Jab mera much dekhogi to kafan odh kar so jaaunga….!!

******

zalim teri bewafai shayari in hindi,

zalim teri bewafai shayari,

हर इल्जाम सहा मेने प्यार मैं,

आज यह जिल्लत भी उठाऊँगी,

तेरी हर खुशी के लियें मेरी जान,

मैं अपने आपको बेवफा भी कहलाऊँगी…!!

Har ilzaam saha mene pyar mein,

Aaj yeh zillat bhi uthaaungi,

Teri har khushi ke liye meri jaan,

Mein apne aapko bewafa bhi kahlaaungi…!!

******

Also Read:

काश ये जालिम जुदाई ना होती,

अ खुदा तूने ये चीज़ बनाई ना होती,

ना हमे वह मिलते ना प्यार होता,

अपनी ज़िन्दगी जो थी वो आज पराई ना होती…!!

Kaash ye zalim judaai na hoti,

A khuda tune ye cheez banaai na hoti,

Na hame wah milte na pyar hota,

Apni zindgi jot hi wo aaj paraai na hoti…!!

*****

zaalim teri bewafai shayari in hindi,

रुशवा क्यों करते हो आप इश्क़ को अ ज़माने वालो,

यार तुम्हारा बेवफा है  तो इश्क़ का क्या गुनाह है….!!

Rushwa kyon karte ho aap ishq ko a zamane walo,

Yaar tumhara bewafa hai to ishq ka kya gunah hai…!!

*******

टूटा हो दिल तो दुःख तो ज़रूर होता है,

करके प्यार किसी से यह दिल रोता है,

दर्द का ऐहसास तो तब होता है,

जब किसी से इश्क़ हो ओर,

उस ज़ालिम के दिल मैं ओर कोई होता है….!!

Toota ho dil to dukh to jarur hota hai,

Karke pyar kisi se yeh dil rota hai,

Dard ka aihasaas to tab hota hai,

Jab kisi se ishq ho or,

Us zalim ke dil main or koi hota hai….!!

******

Also Read:-

नफरतो का प्यार शायरी,

नफरत को प्यार की आँखों मैं देखा,

बेरुखी को उनकी अदाओं मैं देखा,

आँखें नम हुईं ओर मैं रो पड़ा,

जब उनको गैरों की बाहों मैं देखा….!!

Nafarat ko pyar ki aankhon mein dekha,

Berukhi ko unki adaao mein dekha,

Aankhe nam hue or mein ro pada,

Jab unko gairo ki bahon mein dekha….!!

******

zalim teri bewafai shayari in hindi,

Bewafai  zalim shayari in hindi,

हम तो अपनों से खाए ज़ख्म तो,

अब आदत सी हो गई ज़ख्म खाने की,

इश्क़ की ठोकर लगी है हमे अब तो,

आदत सी हो गई चोट खाकर मुस्कुराने की…!!

Hum to apno se khaye zakhm to,

Ab aadat si ho gai zakhm khane ki,

Ishq  ki thokar lagi hai hame ab to,

Aadat si ho gai chot khakar muskrane ki…!!

*******

उस बेवफा की जात पर मुझको यह है गिला,

सुन कर मेरी मौत की खबर ना आया ज़ालिम,

मरने के बाद भी उसके वास्ते मेरी तो यह है दुआ,

जिसने मुझको मिटा दिया वह खुश रहे सदा-सदा…!!

Us bewafa ki jaat par mujhko yeh hai gila,

Sun kar meri maut ki khabar na aaya zalim,

Marne ke baad bhi uske waste meri to yeh hai dua,

Jisne mujhko mita diya wah khush rahe sada-sada…!!

******

Pyar main teri bewafai zalim shayari,

वो जब करीब ही ना आये तो हम इज़हार क्या करते,

खुद बने निशाना तो हम शिकार क्या करते,

मर गये पर खुली रही आँखें,

अब इस से ज्यादा किसी का इंतजार क्या करते….!!

Wo jab kareeb hi na aaye to hum izhaar kya karte,

Khud bane nishana to shikaar kya karte,

Mar gaye par khuli rahi aankhe,

Ab is se zyada kisi ka intezaar kya karte….!!

*******

 

Dosto aapko aaj ki yeh shayari zalim teri bewafai shayari in hindi, ज़ालिम तेरी बेवफाई शायरी इन हिंदी

Kaisi lagi aap mujhe ek baar jarur batana zalim shayari collection kaisa hai,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

zalim teri bewafai shayari in hindi