zalim pyar ka nasha shayari in hindi | नशा शायरी, sharab shayari in hindi

Share This

zalim pyar ka nasha shayari in hindi | नशा शायरी, sharab shayari in hindi

हेल्लो दोस्तों नमस्कार आपका स्वागत है मेरे blog पर नशा इंसान को किसी का भी हो सकता है नशा किसी को शराब का है किसी को प्यार का है तो किसी को जब प्यार मैं धोका मिलता है तो वो संभल जाता है या फिर जीने से जी भर जाता है तो शराब का सहारा लेले ता है आज की शायरी कुछ इस तरह की है. प्यार का नशा शायरी हिंदी में नशा पर आपके लिए बहुत ही शानदार शायरी लेकर आई हूँ zalim pyar ka nasha shayari in hindi, sharab shayari in hindi, ज़ालिम प्यार का नशा शायरी इन हिंदी, शराब दारू का नशा शायरी इन हिंदी,

 

sharab shayari in hindi

रोक 2 मेरे जनाज़े को जालिमों,

मुझमें जान आ गई हें,

पीछे मुड़ कर देखो कमीनो,

दारू की दुकान आ गई हें…

Rok 2 mere janaze ko zalimo,

Mujhme jaan aa gai he,

Pichhe mod kar dekho kimono,

Daaru ki dukaan aa gai he….!!

******

 

sharab ki shayari in hindi,

hum ache hi sahi par log kharab kahte he,

is desh ka bigda huaa nabaab kahte he,

hum aise badnaam hue is shahar main,

ke paani peeye bhi to log se sharaab kahte he…!!

******

Also Read:-

दूर मुझ से ना जाया करो दिल तड़पता हें,

तुम्हारे ख्यालों मैं ही मेरा दिन गुज़रता हें,

पूछता हें यह दिल इक सवाल तुमसे,

क्या दूर रहकर भी तुमको मेरा ख्याल आता हें…!!

Door mujh se naa jaaya karo dil tadpta he,

Tumhare khyaalo main hi mera din guzarta he,

Puchhta he yeh dil ik sawal tumse,

Kya door rahkar bhi tumko mera khyal aata he….!!

******

nasha shayari 4 lines,

Na kabhi pite the na peelate the,

Hum to bas nazro se nazar milate the,

Na jaane kaise hum unse aankhe mila baithe,

Jo sirf apni nigaho se peelate the….!!

*****

na kar sawaal tum is botal se saaheb,

yeh  to sab ke gam ko door karti he,

sabhi peete he is ko shauk se yaha par,

yeh  kaha kisi ko mazboor karti he….!!

*****

zalim pyar ka nasha shayari in hindi | नशा शायरी, sharab shayari in hindi

daru status in hindi,

अब के सावन मैं सबका हिसाब करदूंगा,

जिसका जो बाकि हें वो भी हिसाब करदूंगा,

ओर हमसे इस गिलास मैं ही कैद रख वरना,

सारे शहर का पानी शराब करदूंगा…!!

Ab ke saavan main sabka hisaab kardunga,

Jiska jo baki he wo bhi hisaab kardunga,

Or humse is gilaas main hi ked rakh varna,

Saare shahar kaa paani sharaab kardunga….!!

******

Also Read:-

sharab shayari 4 lines hindi,

तुम्हारी आँखों के यह जो प्याले हें,

हमारी अंधेरी रातों के उजाले हें,

पीते हें जाम पर जाम तेरे नाम के,

मैं तो शराबी बे-शराब वाले हें…!!

Tumhari aankho key eh jo pyale he,

Hamari andheri raato ke ujale he,

Peete he zaam par zaam tere naam ke,

Main to sharab be-sharaab wale he…!!

*****

zalim pyar ka nasha shayari in hindi,

Log Kahte He Peeye Baitha Hoon Main,

Khud Ko Madhosh Kiye Baitha Hoon Main,

Jaan Baki He To Bhi Le Lijiye,

Dil To Pahle Hi Diye Baitha Hoon Main….!!

******

zalim pyar ka nasha shayari in hindi | नशा शायरी, sharab shayari in hindi

sharab daru ka nasha shayari in hindi,

दिल के दर्द से बड़ा कोई दर्द नहीं होता,

आशिकों का शराब के सिवा कोई हमदर्द नहीं होता,

जब दिल टूटता हें तो आँसू उनके भी निकलते हें,

जो कहते हें कि मर्द को दर्द नहीं होता..!!

Dil ke dard se bada koi dard nhi hota,

Aashiko kaa sharaab ke siva koi humdard nhi hota,

Jab dil tootta he to aansoo unke bhi nikalte he,

Jo kahte he ki mard ko dard nhi hota….!!

*****

shayari on sharab by ghalib in hindi,

फिर से पीने की कसम खालूँगा,

साथ मैं जीने की कसम खालूँगा,

इक बार अपनी आँखों से पिलादे साकी,

शराफत से जीने की कसम खालूँगा…!!

Fir se peene ki kasam khalunga,

Saath main jeene ki kasam khalunga,

Ik baar apni aankho se pilaade saaki,

Sharafat se jeene  ki kasam khalunga….!!

*******

sharab be ishq shayari 

Ishq-e-bewafaai ne daal di he aadat boori,

Mein bhi shareef hua karta tha is zamaane main,

Pehle din shuru karta tha maszid main namaz se,

Ab dhalti he shaam sharaab ke saath mehkhaane main….!!

******

dard bhari sharabi shayari in hindi font,

Sab Kahte He Peeta Hoon

Itna Ke Mar Jaauga

Na Samjh Hai Wo Jaante

Hi Nahi Agar Peete

Nhi To Kab Ke Mar Jaate….!!

सब कहते हें पीता हें,

इतना के मर जाऊंगा,

न समझ है वो जानते

ही नहीं  अगर पीते

नहीं तो कब के मर जाते…!!

*****

zalim pyar ka nasha shayari in hindi | नशा शायरी, sharab shayari in hindi

shayari on sharabi,

जाम पर जाम पिने से क्या फायदा,

शाम को पीने पर सुबह उतर जायेगी,

अरे दो बूँद मेरे प्यार की पीले,

ज़िन्दगी सारी नशे मैं ही गुजर जायेगी…!!

Zaam par zaam peene se kya fayada,

Sham ko peene par subha utar jaayegi,

Are do bund mere pyar ki peele,

Zindgi saari nashe main hi guzar jaayegi…!!

*******

Also Read:-

 

zalim pyar ka nasha shayari in hindi,

हसीन हो गुलाब जैसी हो तुम,

बहुत नाजुक हो ख्वाब जैसी हो तुम,

दिल की धड़कन मैं आग लगाती हो तुम,

होठों से लगा कर पीने जाऊँ तुम्हे तो,

सर से पांव तक शराब जैसी हो तुम…!!

Haseen ho gulaab jaisi ho tum,

Bahut nazuk ho khvab jaisi ho tum,

Dil ki dhadkan main aag lagaati ho tum,

Hotho se laga kar peene jaau tumhe to,

Sar se paav tak sharaab jaisi ho tum…. !!

******

daru ka nasha shayari in hindi,

Hamesha yaad aati he unki,

or mood ho jaata he kharaab,

Tab Hamesha lekar baithe he hum,

ik haath mein Kalam or ik haath main sharaab…!!

******

इक जहान मागा था जिसमे बहुत सारा प्यारा हो,

मगर दे दिया मैख़ाना जहा बहुत सारी शराब हें

इक कन्धा मागा था जिसका मुझको सहारा मिल सके,

मगर दे दी ज़िन्दगी जहा दुनिया भर की तन्हाई हें….!!

Ik Jahaan Manga Tha Jisme Bahut Saara Pyaar Mile,

Mgr De Diya Mehkhana Jahan Bahut Saari Sharaab Thi,

Ik Kandha Manga Tha Jiska Mujhe Sahaara Mile,

Mgr De Di Zindagee Jahaan Dunia Bhar Ki Tanhaai Thi…!!

******

pyar ka nasha shayari in hindi,

Har Baat kaa Koi Jawaab Nhi Hota He,

Har Ishq kaa Naam Kharaab Nhi Hota He,

You to Jhum Lete He Nashe Main Peene Wale,

Magar Har Nashe kaa Naam Sharaab Nhi Hota He…!!

******

आप क्या जानो शराब कैसे पिलाई जाती हें,

खोलने से पहले बोतल हिलाई जाती हें,

फिर आवाज़ लगाई जाती हें,

आ जाओ दर्दे दिलवालों

यहाँ दर्दे दिल की दावा पिलाई जाती हें….!!

Aap kya jaano sharaab kaise peelai jaati he,

Kholne se pehle botal hilai jaati he,

Fir aawaz lagaai jaati he,

Aa jaao dared dilwaalo,

Yaha darde dil ki dawa peelai jaati he….!!

*******

Also Read:-

pyar ka nasha zalim shayari in hindi,

लाल शाराबी होंठ किसके लिए बने हें,

इनका इंतेज़ार मैं हम कब से बैठे हें,

ज़रा हमको भी तो इन्हे छूने दीजिये,

होंठों का जाम इक बार तो पीने दीजिये..!!

*****

जहा तक इश्क़ को मैंने पढ़ा हें,

इश्क़ कोकीन केबी उस नशे की तरह हें,

जो शुरू-शुरू मैं बहुत अच्छा लगता हें,

ओर जब इसकी आदत हो जाये,

तो इसके बिना जीने की तमन्ना नहीं रहती हें….!!

*****

दोस्तों आपको आज की यह शायरी zalim pyar ka nasha shayari in hindi | नशा शायरी, sharab shayari in hindi कैसी लगी आप लोग मुझे comments करके जरुर बताना और अगर यह शायरी आपको पसंद आई है तो अपने दोस्तों के साथ share भी कर देना ….


Share This

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *