Home gulzar shayari

gulzar shayari zindagi ka kadwa sach, Gulzar shayari on zindagi

121
0
gulzar shayari zindagi ka kadwa sach
gulzar shayari zindagi ka kadwa sach

gulzar shayari zindagi ka kadwa sach, Gulzar shayari on zindagi. gulzar love shayari in hindi 2 lines gulzar shayari on ishq in hindi.best shayari on ishq. गुलजार साहब की शायरी कड़वा सच जिंदगी का एक बार जरूर पढ़ें और अपने चाहने वालों के साथ साझा जरूर करना दोस्तो मे आपके लिए हर अच्छी अच्छी शायरी का खजाना लेकर आती हूँ। अगर आपको ये पसंद आए तो हमारे youtube channel को भी subscribe कर देना..

 

 

gulzar shayari zindagi ka kadwa sach

 

बदल जाओ वक़्त के साथ

या वक़्त बदलना सीखो,

मजबूरियों को मत कोसो,

हर हाल में चलना सीखो.

 

Badal Jaate Waqt Ke Sath

Ya Waqt Badalna Sikho,

Mazburiyon Ko Mat Kauso,

Har Haal Mein Chalna Sikho…

****

कैसे कह दू कि महंगाई बहुत है,

मेरे शहर के चौराहे पर आज भी..

एक रुपये में कई कई दुआएं मिलती है …

****

gulzar shayari zindagi ka kadwa sach
  • Save

 

gulzar shayari zindagi on smile

पता हैं ज़िंदगी फिसल जाएगी

इन हाथो से एक दिन,

तो क्यों ना सबको माफ़ कर दिया जाए,

कुछ पल के लिए ही सही ,

अपना बनके रहा जाए..

****

पहली मोहब्बत लोगों को

एक बात सिखा देती है

कि दूसरी अगर करो

तो हद में रहकर करना..

****

gulzar shayari zindagi best urdu

जब भी ये दिल उदास होता है,

जाने कौन आस पास होता है,

कोई वादा नहीं किया लेकिन

क्यूँ तेरा इंतज़ार रहता है..

***

gulzar shayari on zindagi

शाम से आँख में नमी सी है,

आज फिर आप की कमी सी है.

दफ़्न कर दो हमें के साँस मिले,

नब्ज़ कुछ देर से थमी सी है..

****

मैंने दबी आवाज़ में पूछा,

मुहब्बत करने लगी हो?

नज़रें झुका कर वो बोली.. बहुत..

gulzar shayari zindagi ka kadwa sach
  • Save

gulzar shayari zindagi quotes on ishq

 

Maine Dabi Aawaz Me Puchh

Mohabbat Karane Lagi Ho

Nazare Jhuka Kar Wo Boli.. Bahut..

****

मत पूछो कैसे गुज़रता है

हर पल तुम्हारे बिना

कभी बात करने की हसरत

तो कभी देखने की तमन्ना..

 

Mat pucho kaise guzarta hai

Har pal tumhare bina

Kabhi baat karne ki hasrat

Toh kabhi dekhne ki tamanna..

****

gulzar shayari zindagi ka kadwa sach
  • Save

 

gulzar shayari zindagi mohabbat in hindi

दिल में कुछ जलता है शायद,

धुआँ धुआँ सा लगता है

आँख में कुछ चुभता है शायद,

सपना सा कोई सुलगता है..

 

Dil main Kuch jalta hai shayad,

Dhua Dhua sa Lagta Hai,

Ankh main kuch chubhta hai shayad,

Sapna sa koi sulagta hai..

****

जब भी आंखों में अश्क भर आए

लोग कुछ डूबते नजर आए

चांद जितने भी गुम हुए शब के

सब के इल्ज़ाम मेरे सर आए..

****

gulzar shayari zindagi ka kadwa sach
  • Save

 

gulzar shayari zindagi love in hindi

क़यामत तक याद करोगी,

किसी ने दिल लगाया था,

एक होने की उम्मीद भी ना थी,

फिर भी पागलो की तरह चाहा था..

 

Qayaamat tak yaad karogi,

kisi ne dil lagaya tha,

ek hone ki ummeed bhi na thi,

phir bhi paglo ki tarah chaaha tha..

****

best quotes on mohabbat in urdu

आज मैंने खुद से एक वादा किया है,

माफ़ी मांगूंगा तुझसे तुझे रुसवा किया है,

हर मोड़ पर रहूँगा मैं तेरे साथ साथ,

अनजाने में मैंने तुझको बहुत दर्द दिया है..

****

मैंने मौत को देखा तो नहीं,

पर शायद वो बहुत खूबसूरत होगी,

कमबख्त जो भी उससे मिलता हैं,

जीना ही छोड़ देता हैं,

उम्र जाया कर दी लोगो ने

औरों में नुक्स निकालते निकालते,

इतना खुद को तराशा होता तो फरिश्ते बन जाते..

****

best urdu shayari on mohabbat

 

Umar zaya kar di logo ne

Auro mein nuks nikalte nikalte

Itna khud ko tarasha hota

To farishte ban jaate..

****

zindagi ka kadwa sach

गलतियाँ भी होंगी और

गलत भी समझा जाएगा

यह ज़िन्दगी है जनाब

यहाँ तारीफे भी होगी

और कोसा भी जाएगा..

 

Galitya bhi hongi aur

Galat bhi samjha jayega

Yeh zindagi hai janab

Yaha taarife bhi hogi

Aur kosa bhi jaayega..

****

gulzar shayari zindagi ka kadwa sach
  • Save

gulzar shayari in hindi

आदतन तुमने कर दीए वादे,

आदतन हमने एतबार किया,

तेरी राहों में बारहाँ रुक कर,

हमने अपना ही इंतज़ार किया,

अब ना मांगेंगे ज़िन्दगी या रब,

यह गुनाह हमने जो एक बार किया…

 

Aadatan tumne kar diye waade,

Aadatan humne aitbar kiya,

Teri raahon mein baarhan ruk kar,

Humne apna hi intezaar kiya,

Ab naa mangenge zindagi yaa rab,

Yeh gunaah humne jo ek baar kiya…

****

read more:-

आओ तुमको उठा लूँ कंधों पर,

तुम उचकाकर शरीर होठों से चूम लेना,

चूम लेना ये चाँद का माथा,

आज की रात देखा ना तुमने,

कैसे झुक-झुक के कोहनियों के बल,

चाँद इतना करीब आया है..

****

gulzar shayari on zindgi

तुम्हें मोहब्बत कहां थी,

तुम्हें तो सिर्फ़ आदत थी,

मोहब्बत होती तो हमारा..

पल भर का बिछड़ना भी,

तुम्हे सुकून से जीने नहीं देता..

****

अकेला जरूर हु पर कमज़ोर नहीं,

पूरा समुन्दर हु सिर्फ शोर नहीं,

पूरी दुनिया जितना है अभी तो.

उससे पहले बांधे मुझको ऐसी कोई डोर नहीं..

****

Previous articlegood morning motivational quotes in hindi: प्यारी सी गुड मॉर्निंग
Next articlekatil nazar shayari in hindi:- एक कातिल नजर शायरी हिंदी, nazar shayari

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here