Home Aankhein Shayari

कातिल निगाहों पर शायरी, 10 बेहतरीन चुनिंदा निगाह शायरी, katil nazar shayari

77
0
कातिल निगाहों पर शायरी

कातिल निगाहों पर शायरी, 10 बेहतरीन चुनिंदा निगाह शायरी.चुनिंदा निगाह शायरी, katil nazar shayari, Katil nigah par behatrin chuninda shayari. 10 katil nazar shayari in hindi. nazar shayari in hindi. katil nazar shayari in urdu. katil nazar shayari in English.

कातिल निगाहों पर शायरी

 

katl kar deti hai

Tumhari ek nazar kai hazaron ka,

Mujhe to dar hai

Kya hoga ab un bhid bhare bazaron ka..

 

क़त्ल कर देती है,  

तुम्हारी एक नज़र कई हज़ारों का,

मुझे तो डर है,  

क्या होगा अब उन भीड़ भरे बाज़ारों का..

***

Nazar main khwaab naye raat bhar jagate hue,

Tamaam raate kati tumko gungunate hue,

Tumhari baat khyaal main gumsum sabhi,

Ne dekh liya hamko muskurate hue..

 

नज़र में ख़्वाब नए रात भर सजाते हुए,

तमाम रातें कटी तुमको गुनगुनाते हुए,

तुम्हारी बात ख़याल में गुमसुम सभी,

ने देख लिया हमको मुस्कराते हुए..

****

कातिल निगाहों पर शायरी
  • Save

 

चुनिंदा निगाह शायरी

 

Na jaane tujhe kaisa ye hunar aata hai,

Main tere prem se bach kar jaaun to kaha jaaun,

Too meri soch ki har dahleez pe nazar aata hai..

 

ना जाने तुझे कैसा ये हुनर आता है,

मैं तेरे प्रेम से बच कर जाऊं तो कहाँ जाऊं,

तू मेरी सोच की हर दहलीज़ पे नज़र आता है..

****

कातिल निगाहों पर शायरी

 

Tujhe dekh kar ye jaha rangin nazar aata hai,

Tere bina dil ko chain kaha aata hai,

Too hi hai mere is dil ki dhadkan,

Tere bina ye jaha bekar nazar aata hai..

 

तुझे देख कर ये जहां रंगीन नजर आता है.

तेरे बिना दिल को चैन कहां आता है,

तू ही है मेरे इस दिल की धड़कन,

तेरे बिना ये जहां बेकार नज़र आता है..

****

See Also:- ishq ki pehli nazar shayari, इश्क पहली नजर शायरी 2022

katil nazar shayari

 

Nigahon se teer tum chala rahi ho,

Nazaron se mujhe pagal bana rahi ho,

Yah kaisa jaadu kiya hai tumne,

Mere seene se dil lekar ja rahi ho..

 

निगाहों से तीर तुम चला रही हो,

नज़रों से मुझे पागल बना रही हो,

यह कैसा जादू किया है तुमने,

मेरे सीने से दिल लेकर जा रही हो…

****

कातिल निगाहों पर शायरी
  • Save

 

कातिल निगाहें शायरी

 

Kaun aaya hai ki nigaahon main chamak jag uthi,

Dil ke soye hue taranon main khanak jag uthi,

Kiske aane ki khabar le kar hawaye aayi,

Ruh khilne lagi saanson main mahak jag uthi..

 

कौन आया है कि निगाहों में चमक जाग उठी,

दिल के सोये हुए तरानों में खनक जाग उठी,

किसके आने की खबर ले कर हवाएँ आई,

रूह खिलने लगी साँसों में महक जाग उठी…

****

See Also:- katil nigahen shayari hindi: कातिल निगाहें शायरी हिंदी

कातिल निगाहों पर शायरी

 

Nazar mujhse milti ho,

To tum sharma si jaati ho,

Isi ko pyar kahte hai,

Isi ko pyar kahte hai..

 

नज़र मुझसे मिलती हो,

तो तुम शर्मा सी जाती हो,

इसि को प्यार कहतें हैं,

इसी को प्यार कहतें हैं..

****

कातिल निगाहों पर शायरी
  • Save

 

नजर शायरी इमेज

 

Aankhe bhi meri palko se sawal karti hai,

Har waqt aapko hi bas yaad karti hai,

Jab tak na le didar aapka,

Tab tak wo aapka intezaar karti hai..

 

आँखें भी मेरी पलकों से सवाल करती हैं,

हर वक्त आपको ही बस याद करती हैं,

जब तक न कर ले दीदार आपका,

तब तक वो आपका इंतजार करती हैं..

****

See Also:-  katil nazar shayari in hindi:- एक कातिल नजर शायरी हिंदी, nazar shayari

नजर पर शायरी

 

Tere bin bole hi mujhe mere,

Pyar ka jabab mil gaya,

Teri nazare jhuki or,

Hamare pyar ka phool khil gaya..

 

तेरे बिन बोले ही मुझे मेरे,

प्यार का जवाब मिल गया,

तेरी नज़रे झुकी और,

हमारे प्यार का फूल खिल गया..

****

Teri neeli aankhon ka main kazal ban jaaun,

Teri aankhon main aansu ka main badal ban jaaun,

Khwahish to meri har pal hai itni tere raaste,

Ke kaanton ki main chaadar ban jaaun..

 

तेरी नीली आँखों का में काजल बन जाऊ,

तेरी आँखों में आँसू का मैं बादल बन जाऊ,

ख्वाहिश तो मेरी हर पल हैं इतनी तेरे रास्ते,

के काँटों की मैं चादर बन जाऊ…

*****

कातिल निगाहों पर शायरी
  • Save

 

तिरछी नजर पर शायरी

 

Ab to sirf hikarat bhari nazare hai,

Yaa khamosh alfaaz,

Jo jata jaate hai ki ab hum na hai,

Tumhari duniya main koi chaah hamari..

 

अब तो सिर्फ हिकारत भरी नज़रें है,

या खामोश अलफ़ाज़,

जो जता जाते हैं की अब हम ना हैं,

तुम्हारी दुनिया में ना कोई चाह हमारी..

 

****

 

See Also:-  एक कातिल नजर शायरी हिंदी, katil nazar shayari in hindi

कातिल निगाहों पर शायरी

 

Too bekhabar hogi par main teri har khabar  rakhta hoon,

Kahi nazar na lag jaaye tujhe zamane ki,

Isi pareshani main saare zamane par nazar rakhta hoon..

 

तू बेखबर होगी पर मैं तेरी हर खबर रखता हूँ,

कहीं नज़र ना लग जाए तुझे ज़माने की,

इसी परेशानी में सारे ज़माने पर नज़र रखता हूँ..

***

 

Previous articleZindagi pareshani se bhari gulzar shayari, zindagi ki kadwi sachai shayari
Next articletum jiyo hazaro saal birthday sms, birthday wishes in hindi, जन्मदिन शायरी 2022

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here