nafrat teri nigahon ki shayari

nafrat teri nigahon ki shayari, sad love shayari

nafrat teri nigahon ki shayari: sad love shayari. झूठ से नफरत शायरी. khamosh nigahen shayari. पति से नफरत शायरी. मुझे प्यार से नफरत है. shayari on nigahen in hindi. प्यार से नफरत शायरी इन हिंदी..

 

nafrat teri nigahon ki 

 

वजह चाहिए होती है नफरत के लिए जनाब,

प्यार होने के लिए तो बस एक मुस्कान ही काफी होती है….!!

***

गुजरे हैं इश्क़ में हम इस मुकाम से नफरत सी हो गई है

मोहब्बत के नाम से हम वो नहीं जो मोहब्बत में रो कर के जिंदगी को गुजार दे,

अगर परछाई भी तेरी नजर आ जाए तो उसे भी ठोकर मार दें…।

**

teri nigahon ki nafrat shayari

 

मैं जीने की तमन्ना लेके जाता हूँ

रोज़ उसके पास,

वो रोज़ अपनी मुस्कुराहट से,

मेरा क़त्ल कर जाती हैं…!!

***

तुम देर से आये तो हमें चिंता हुई,

और हम देर से आये तो तुम्हें शक,

किस को दिखाए इस दिल के जख्म को

कितना दिया था  हमने तुम्हें हक….!!

**

khamosh nigahen shayari

 

हमने भी अजीब ज़िद्द पाली है,

हमने उसे अपनी चाहत बना लिया

जिसने अपने दिल में हमारे लिए

बेइन्तेहाँ नफरत पाल ली है…।

**

वो नफरतें पाले रहे हम प्यार निभाते रहे,

लो ये जिंदगी भी कट गयी खाली हाथ सी..।

***

ऐसी बेवफाई की उसने,

मोहब्बत भी बदनाम हो गई

अपनी मोहब्बत की इतनी कीमत वसूल की उसने

कि हमारी कब्र भी नीलाम ही गई.!!

**

nafrat teri nigahon ki shayari

 

करने तबाह मोहब्बत के बहाने ले गया,

एक परिंदा आकर मेरी उड़ाने ले गया

कल गली से उनकी गुज़रे तो लगा,

कोई आकर मोहब्बत के ज़माने ले…!!

**

मुहब्बत होंठों से नहीं,

उनसे निकली मीठी बातों से है..

क्यों कि मासूमियत चेहरे से कहीं ज्यादा,

उसकी भोली आँखों..!!

***

बिन बात के ही रूठने की आदत है,

किसी अपने का साथ पाने की चाहत है,

आप खुश रहें,

मेरा क्या है मैं तो आईना हूँ,

मुझे तो टूटने की आदत है..!!

**

गुलाब की खुशबू भी फीकी लगती है,

कौनसी खूशबू मुझमें बसा गई हो तुम,

जिंदगी है क्या तेरी चाहत के सिवा,

ये कैसा ख्वाब आंखों में दिखा गई हो तुम…!!

**

nafrat teri nigahon ki shayari

 

shayari on nigahen in hindi

 

यूं तो उसके चेहरे पर नकाब था मगर,

कल्त करने को निगाहे खुली छोड़ दी…।

**

 

Nadi ko sagar se milne se na roko,

Barish ki bundo ko dharti se milne se na roko,

jinda rehne ke liye tumko dekhna jaruri hai,

mujhe tumhara didar karne se na roko…!!

**

इन सांसो में तेरी यादे बस जाती हैं,

जो याद न करूँ तो मेरी जान जाती है,

मैं कैसे कह दूँ मोहब्बत नही है तुझसे,

जब ये साँसे तुझसे जुड़ जाती हैं…।

**

nafrat teri nigahon ki shayari

 

Na Mile Phool Teri Mohabbat Ke To Kya,

Biche Hai Jo Raho Main Wo Kante Hi Sahi….

 

Na Badal Sake Tuze Mohabbat Se Apani To Kya,

Or Jo Badale Wo Mousam Hi Sahi…

 

Tuze Na Bana Sake Humsafar To Kya,

Hum Haare Hue Ashiq Hi Sahi…

 

Na Mil Saki Wafa Teri To Kya,

Jo Mili Wo Bewafai Hi Sahi…

 

Dard Ki Jo Ab Lete Hai Dava,

Chahe Log Kahe Use Sharab Hi Sahi…

 

Tere Gam Ka Ab Kya Gam Karu,

Pehle Hi Hazaro Gam Hai Is Dil Mein,

Tera Ek Gum Aur Sahi…!!

***

Ishq Ki Hamare Bas Itni Si Kahani Hai,

Tum Bichhad Gaye Ham Bikhar Gaye,

Tum Mile Nahin Aur…

Ham Kisi Aur Ke Hue Nahi…!!

**

Tumhe koi or bhi chaahe,

Is baar par dil hamara jalta hai,

Lekin guroor hai hume is baat ka,

Ki har koi hamari jaan par hi marta hai..!!

**

nafrat teri nigahon ki shayari

नफरत शायरी फॉर girlfriend

 

निगाहों की प्यास को बुझा नहीं सकता,

लबों से मैं कुछ कह नहीं सकता,

कैसे करूँ इज़हार हाल-ए-दिल अपना,

कि तुम्हारे बिना मैं रह नहीं सकता…!!

**

Hum To Aankhon Main Sanwarte Hai Wahi Sanwrenge,

Hum Nahi Jante Aaine Kahan Rakhe Hai..!!

**

Jab pyar k ehsas ko samajh jaaoge,

Har saans me mera hi naam paaoge,

Mera pyar uss waqt dega awaaz,

Jab duniya ki bheed me tum khud ko akela paaoge…!!

**

khuda salaamat rakhana unhen,

jo hamse nafrat karte hai,

pyaar na sahi nafrat hi sahi,

kuch to h jo wo sirf hamse karte hai ….!!

***

nafrat teri nigahon ki shayari

2 line shayari on nigahen

 

प्यार ज्यादा हो तो शक अपने आप होने लगता है,

महबूब शक करें तो कभी इसे प्यार की तौहीन मत समझना…!!

**

अब के यूं दिल को सजा दी हमने,

उसकी हर बात भुला दी हमने,

आज तक जिसपे वो शरमाते थे,

बात वो कब की भुलादी हमने….!!

**

बेवफा नफरत शायरी

 

वह छोड़ कर गए हमें ना जाने उनकी क्या मजबूरी थी खुदा ने

कहा इसमें उनका कोई कसूर नहीं यह कहानी तो मैंने लिखी ही

अधूरी थी प्यार में बेवफाई मिले तो गम ना करना अपनी आंखें

किसी के लिए नमूना करना वह चाहे लाख नफरत करे तुम पर

तुम अपना प्यार कभी उसके लिए कम ना करना…!!

**

होंठों पे उल्फत का नाम होता है,

आँखों में छलकता जाम होता है,

तलवारों की ज़रूरत वहां कैसे,

जहाँ नज़रों से कत्ल-ए-आम होता है..!!

**

Shayari nafrat teri nigahon ki

 

तुम्हारी निगाह हमारे

दिल पर कब्ज़ा किए बैठी है,

हमारी निगाहें बस तुम्हारी

निगाहों में देखने का जज़्बा लिए बैठी है।

**

कुछ इस अदा से निभाना है

किरदार मेरा मुझको जिन्हे

मुहब्बत ना हो मुझसे वो

नफरत भी ना कर सके…!!

***

Agar Itni Hi Nafrat Hai Hamse To,

Dil Se Kuchh Aisee Dua Karo,

Ki Aaj Hi Tumhari Dua Bhi Poori Ho Jaaye,

Aur Hamari Zindagi Bhi…!!

**

nafrat teri nigahon ki shayari

 

सवाल ना किसी नफरत का है

और ना ही मोहब्बत का है..

जी ना सके जिंदगी तहे दिल से

अफसोस बस इसी बात का है..!!

***

निगाहों में कोई दूसरा चेहरा नहीं आया,

भरोसा ही कुछ ऐसा था तुम्हारे लौट आने का…!!

****

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *